Aaj ke mandi bhav 28 फरवरी : आज के नरमा और कपास के ताजा मंडी भाव

Written by Vinod Yadav

Published on:

Aaj ke mandi bhav – जो भी भाव आपको इस टेबल में दिए गए है वो सुबह के भाव है इसलिए किसान भाई को सलाह दी जारी है की फसल बेचने से पहले एक बार मंडी में फ़ोन करके भाव के बारे में जानकारी जरूर ले क्योकि मंडी में कपास के भाव में थोड़ा बहुत अंतर देखने के लिए मिल सकता है। इसके साथ ही इस टेबल में देश की बड़ी बड़ी मंडियों के भाव दिए गए है।

और ये जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से ली गई है। नर्म और कपास के दाम में उत्तार और चढ़ाव होते रहते है इसलिए किसी भी प्रकार के भाव के अंतर के लिए वेबसाइट संचालक जिम्मेदार नहीं है। आप अपनी फसल बेचने के लिए पहले मंडी में भाव का पता जरूर करे और रोजाना अपडेट पाने के लिए हमें व्हाट्सअप पर फॉलो भी कर सकते है। इसके लिए निचे फॉलो बटन दिया गया है।

आज के ताजा भाव प्रति किवंटल

मंडीफसलभाव
आदमपुरनरमा8200
सिरसानरमा7970
ऐलनाबादनरमा7870
सिरसाकपास9575
अबोहरनरमा7770
बरवालानरमा7815
अबोहरकपास9700
भट्टूनरमा7805
श्री विजयनगरनरमा8210
संगरियानरमा8086
गांव गंगानरमा7831
फतेहाबादनरमा7800
यवतमालकपास7600
खैरीकपास7800
घाटजीकपास7800
शिरपुरकपास7825
हिघानघाटकपास8050
गोलूवालाकपास8400
गजसिंहपुरकपास8225
ये खबर आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है इसलिए इन्हे भी पढ़े
[feed url=”https://kisanyojana.org/category/mandi-bhav/” number=”10″]

किसान भाई को बता दे की अभी के टाइम में जो कपास का नार्मल रेट चल रहा है वो आठ हजार रूपये है और ये भारत में ही नहीं अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी इसके भाव कम हो रहे है इसकी वजह से मार्किट में कपास के दाम गिर रहे है। किसानो ने अपनी कपास को रोक के रखा हुआ है। मार्किट में एक दम से कपास की आवक अधिक होने से इसके दाम कम होने लगते है।

जैसे ही कपास के दाम बढ़ते है तो सभी किसान एक लाभ लेने के लिए कपास को बेचते है तो अधिक आवक होने से दाम गिर जाते है। इससे पहले 2022 में कपास का अच्छा भाव मिल रहा था। सितम्बर में 12 हजार प्रति किवंटल कपास बिकी थी। अभी कपास के दाम घटने की वजह से किसान भाई कपास की बिक्री नहीं कर रहे है तो इसका असर स्पिनिंग उधोगो पर भी हो रहा है। माल नहीं मिलने के कारण उनका प्रोडक्शन आधा भी नहीं रह गया है। हालाँकि इस बार मंडी में पिछले साल की तुलना में कपास की आवक कम हो रही है।

About Vinod Yadav

My name is Vinod Yadav and I am from Haryana. Although I do a job, but I am fond of writing. This blogging starts from here again. I belong to a farming family, so I have a good knowledge of agriculture. I am also an engineer in textile, so the market and plans are also taken care of. There's just one drawback. Bless you all. Hope to keep it. Jai Hind, Jai Jawan - Jai Kisan

Leave a Comment