राजस्थान इंदिरा रसोई योजना | Rajasthan Indira Rasoi Yojana | 8 रूपए में भरपेट खाना

Written by Vinod Yadav

Updated on:

Rajasthan Indira Rasoi Yojana: हमारे भारत में बहुत से गरीब लोग रहते हैं जो सही प्रकार से एक टाइम का खाना भी नहीं खा पाते। वह उनके जीवन का गुजारा बड़ी ही कठिनाईयों एवं मुश्किल के साथ करते हैं। इन सभी कठिनाइयों एवं मुश्किलों को ध्यान में रखते हुए राजस्थान  सरकार ने राजस्थान इंदिरा रसोई योजना की शुरुआत की है,इसकी शुरुआत राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा की गई है।

Table of Contents

आज के आर्टिकल में हम राजस्थान इंदिरा रसोई योजना क्या है?, राजस्थान इंदिरा रसोई योजना के लाभ एवं महत्व क्या है?,इसके उद्देश्य एवं इसके प्रमुख बिंदु क्या है?, एवं इसमें आवश्यक पात्रता क्या है?, आदि सभी बातों के बारे में हम आज कि इस पोस्ट में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना क्या है? Rajasthan Indira rasoi Yojana kya hai

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्रीमान अशोक गहलोत जी के द्वारा Rajasthan Indira Rasoi Yojana का संचालन किया गया है, इस योजना को संचालित करने का कारण यह है कि राजस्थान का कोई भी गरीब व्यक्ति भूखा ना सोए। Rajasthan Indira Rasoi Yojana के माध्यम से ₹8 में गरीब व्यक्ति को एक टाइम का बढ़िया फ्रेश खाना मिलेगा। वैसे देखा जाए तो एक टाइम का खाना खाने के लिए ₹25 का खर्च आता है। जिसमें से ₹17 राज्य सरकार के द्वारा भुगतान किए जाएंगे, गरीबों को केवल ₹8 में एक टाइम का फ्रेश खाना मिल जाएगा। भुखे को खाना खिलाना ही इस योजना का लक्ष्य है।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना का शुभारंभ – When was the Rajasthan Indira Rasoi Yojana started?

राजस्थान में Rajasthan Indira rasoi Yojana की घोषणा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा 20 अगस्त 2020 को की गई थी। जिस दिन इस योजना की घोषणा की गई थी, उसी दिन एक शुभ अवसर भी था। जब इस योजना को पहले शुरू करने की घोषणा की गई थी,तब इस योजना को अन्नपूर्णा का नाम दिया गया, फिर बाद में इसका नाम बदलकर राजस्थान इंदिरा रसोई योजना रख दिया गया।

Rajasthan Indira Rasoi Yojana राजस्थान की सबसे बड़ी योजनाओं में से एक थी। इस योजना के वार्षिक बजट की बात करें, तो इसका 1 साल का बजट 100 करोड़ रुपए था। अब जब इस योजना को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा बजट 2023-24 के अंतर्गत पास किया गया, तो इसमें वार्षिक बजट बढ़ाकर 250 करोड़ कर दिया गया है।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना 2023 – Raasthan Insira Rasoi Yojana 2023

हमारे राज्य के मुख्यमंत्री के द्वारा इस योजना के तहत गरीबों को 2 घंटे का स्वादिष्ट एवं फ्रेश खाना खिलाना है। Rajasthan Indira rasoi Yojana की शुरुआत राज्य में 213 नगरी एवं शहरी क्षेत्र में 358 रसोइयों के साथ की गई है। 18 दिसंबर 2022 को जोधपुर में 512 नई इंदिरा रसोइयों की घोषणा की गई थी। अब तक राजस्थान में कुल मिलाकर 870 इंदिरा रसोईया हो गई है।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना का संचालन Angios के द्वारा किया जाता है। इसके अंदर मॉनिटरिंग समिति रसोई नाम की रसोई को चलाने के लिए 300 से अधिक Angios का संकलन किया गया है। एवं इसके साथ ही जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में अपरिवर्तित जिला स्तरीय समन्वय में संचालन के लिए भी 300 से अधिक Angios का संकलन किया गया है। इस योजना के अंतर्गत वर्तमान में अब तक 7.01 करोड़ रुपयों के भोजन की थालिया परोसी जा चुकी है। जो कि इस योजना का 72.32% हिस्सा है। यह योजना आगे जाकर गरीबों के लिए एक वरदान साबित होगी। राजस्थान इंदिरा आवास योजना के माध्यम से लोगों को प्रतिवर्ष 4.87 लाख गरीब लोगों को भोजन की थालीया़ं परोसना है। एवं प्रतिदिन में 1.34 लाख लोगों को इस योजना के तहत खाना मिलेगा। इस योजना के माध्यम से राजस्थान के हर गरीब की भुख मिटेगी।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना के उद्देश्य – Objectives of Rajasthan Indira Rasoi Yojana

देश में गरीबी एक बहुत बड़ा चक्र है, इसमें रोजाना कई लोगों की भूख के कारण मृत्यु हो जाती है। हमारे राजस्थान में भी भुखमरी के कारण कई लोगों की मृत्यु होती रहती हैं। Rajasthan Indira rasoi Yojana का मुख्य उद्देश्य यह है कि, राजस्थान में लोगों की भुखमरी के कारण मृत्यु होने से बच जाए। राजस्थान का कोई भी नागरिक भूखा ना सोए यह भी इसका एक बड़ा उद्देश्य है।

राज्य के प्रत्येक नागरिकों को जीवन जीने की सही दिशा मिल सके इस कारण भी इंदिरा रसोई योजना का संचालन किया गया है। गरीब लोगों को कम पैसों में अच्छा भोजन देना ही इस योजना का उद्देश्य है।

साथ ही इस योजना के कारण गरीब बच्चों का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा और वह देश के विकास में अपना कीमती योगदान कर पाएंगे।

Rajasthan Indira Rasoi Yojana से कुपोषण में कमी आयेगी।

योजना से छोटे गरीब लोगों को काफी लाभ होगा,क्योंकि उनके द्वारा कमाई गई कम आमदनी में भी उनको अच्छा भोजन मिल जाएगा। योजना के कारण बच्चों का अनमोल जीवन समाप्त होने से बच जाएगा।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में थाली के प्रति बढ़ाया गया अनुदान – Grant increased per plate in Rajasthan Indira Rasoi Yojana

Rajasthan Indira Rasoi Yojana के अंतर्गत पहले थाली का अनुदान ₹12 था। इसके साथ ही राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बढ़ती हुई महंगाई को देखकर थाली का अनुदान ₹12 के बजाय ₹17 का निर्णय ले लिया।

अर्थात अब गरीब को एक थाली के सिर्फ 8 रूपए ही देने होंगे।

उन्होंने बताया कि यह निर्णय लेने से गरीबों को लाभ मिलेगा एवं इंदिरा रसोई योजना चलाने में सुगमता आएगी। इस इंदिरा रसोई योजना में सरकार के द्वारा हर साल 27.63 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाती हैं। इस योजना के माध्यम से सभी गरीबों का पेट पलता है।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना के लाभ एवं विशेषताएं – Benefits and features of Rajasthan Indira Rasoi Yojana

  • Rajasthan Indira rasoi Yojana में होने वाला संपूर्ण ख़र्चा एवं कार्य संचालन में जो खर्च आएगा उस पूरे खर्चें का भुगतान राजस्थान की राज्य सरकार के द्वारा किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से केवल ₹8 में व्यक्ति एक टाइम का ताजा एवं शुद्ध भोजन कर सकता है‌।
  • इस योजना के संचालन के लिए राज्य सरकार ने प्रत्येक वर्ष 100 करोड़ रुपए का बजट पारित करने का फैसला लिया है।
  • रसोइयों को सही तरीके से चलाने के लिए राज्य सरकार ने भी स्थानीय संस्थाओं से कहा है कि वह पूरे तन मन एवं पूरे सेवा भाव से हमारे साथ काम करें।
  • रसोई घर में भोजन की थाली के साथ-साथ ही बैठने के लिए आसन भी बनाए गए हैं, जिस पर बड़ी आसानी से बैठकर भोजन ग्रहण कर सकते हैं।
  • इस योजना का संचालन जिस भी किसी व्यक्ति के द्वारा किया जा रहा है,उस व्यक्ति को राज्य सरकार के द्वारा प्रत्येक थाली पर ₹17 की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के तहत भोजन के मैन्यू में मुख्य रूप से प्रति थाली में 100 ग्राम दाल,100 ग्राम सब्जी,250 ग्राम चपाती एवं आचार सम्मिलित किया गया है।
  • Rajasthan Indira rasoi Yojana के अंतर्गत दोपहर का भोजन लगभग 8:00 बजे से दोपहर के 1:00 बजे के मध्य करवाया जाएगा एवं रात्रि का भोजन साय 5:00 से 8:00 के मध्य करवाया जाएगा।
  • यदि किसी भी प्रकार की समस्या के कारण भोजन सभी के पास नहीं पहुंच पाया, तो भोजन को सभी के पास पहुंचाने के लिए राज्य सरकार एक्शटेन्शन काउंटर द्वारा भोजन परोसा जा सकता है।
  • अगर कोरोना जैसी कोई महामारी फिर से आएगी तो राज्य सरकार के द्वारा इस योजना का संचालन सुचारु रुप से जारी रहेगा।
  • अगर कोई इस योजना के अनुसार इंदिरा रसोई योजना का शुभारंभ करता है, तो उसको राज्य सरकार के द्वारा एकमुश्त ₹5 लाख रुपए एवं आधारभूत 3 लाख रुपए की आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत आने वाले भोजन की जांच एवं गुणवत्ता का निरीक्षण राज्य एवं जिले की स्तरीय समिति के द्वारा किया जाएगा।
  • राज्य एवं जिला की स्तरीय समिति को अपने अनुसार इस योजना में आने वाले भोजन में मैन्यू के चयन करने की स्वतंत्रता है।
  • इस योजना के लाभार्थियों के द्वारा इस योजना का फीडबैक लिया जाता है जिससे इस योजना को और बेहतर बनाया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत अब तक 100 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे थे लेकिन बजट 2023-24 के अनुसार अब इस योजना में लगभग 250 करोड़ रुपए प्रति वर्ष खर्च किए जाएंगे।
  • Rajasthan Indira rasoi Yojana के बारे में संपूर्ण जानकारी राजस्थान पोर्टल से भी ली जा सकती है।
  • इस योजना का काम पेपर लेस किया जाता है क्योंकि इस योजना में किसी भी प्रकार की धांधली एवं चालाकी ना की जा सके।
  • इस योजना के अंतर्गत भोजन में जो निरीक्षण किया जाता है,वह प्रत्येक 2 महीने के अंदर किया जाता है।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में अपना सहयोग कैसे करें – How to cooperate in Rajasthan Indira Rasoi Yojana

  • अगर कोई Rajasthan Indira Rasoi Yojana में दान देना चाहता है, तो वह जिला स्तरीय रसोई बैंक के खाते एवं मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान दे सकता है फिर चाहे वह कोई व्यक्ति हो या कोई संस्था।
  • इसी के साथ ही अगर कोई व्यापारिक एवं औद्योगिक संस्था इस योजना के अंतर्गत दान करना चाहती हैं तो वह संस्था CRS फंड के द्वारा दान कर सकती है।
  • इसके साथ ही व्यापारिक एवं औद्योगिक संस्था चाहे तो Rajasthan Indra rasoi Yojana का पूरा उत्तरदायित्व भी ले सकती है।
  • सरकार द्वारा संचालित इस योजना में सहयोग देने के लिए आपको आपके घर पर किसी कारणवश होने वाले भोजन के प्रोग्राम में गरीब बच्चों को एक वक्त खाना खिला देना चाहिए।
  • इस योजना में प्रयोजक भी अपना समर्थन दे सकते हैं उनके द्वारा दी गई,राशि इंदिरा रसोई बैंक खाते में जाएगी।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में आवश्यक दस्तावेज – Required documents in Rajasthan Indira Rasoi Yojana

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में आवेदन हेतु आवेदक के पास निम्न दस्तावेज होना आवश्यक है।

  • मोबाइल नंबर
  • मेल आईडी
  • पूरा पता
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • पेन कार्ड
  • जाति प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक डायरी
  • आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना पात्रता – Rajasthan Indira Rasoi Yojana Eligibility

  • Rajasthan Indira rasoi Yojana में लाभ लेने वाला लाभार्थी राजस्थान राज्य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • राजस्थान के गरीब लोगों को ही इस योजना के अंतर्गत लाभ दिया जाएगा।
  • इसमें आवेदन करने के लिए आवेदन कर्ता की उम्र 20 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में आवेदन – Application in Rajasthan Indira Rasoi Yojana

जो भी इस योजना मे आवेदन के लिए इच्छुक हैं उन सभी को थोड़ा इंतजार करना पड़ेगा। क्योंकि राज्य सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा इस योजना की केवल उद्घोषणा की गई है इसे अभी पूर्ण रूप से जारी नहीं किया गया है। इस कारण इस योजना में आवेदन की प्रक्रिया अभी तक बताई नहीं गई है। जैसे ही इस योजना में कोई आवेदन की प्रक्रिया आएगी,तो हम हमारे लेख के माध्यम से आपको आवेदन की प्रक्रिया के बारे में सूचित कर देंगे।

Rajasthan Indira Rasoi Yojana FAQ

Q1. राजस्थान इंदिरा रसोई योजना का संकल्प क्या है?

Ans:- राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने Rajasthan Indira Rasoi Yojana का परिचय देते हुए कहा कि राजस्थान में इस योजना का एक ही संकल्प होगा वह है “कोई भूखा ना सोए”। इस योजना की शुरुआत में 213 नगरी इकाइयों एवं 358 रसोइयों का संचालन कर,इस योजना की शुरुआत की है।

Q2. राजस्थान इंदिरा रसोई का भोजन समय क्या है?

Ans:- राजस्थान इंदिरा रसोई योजना का जो भोजन का समय था वह एक निश्चित सारणी के अनुसार परोसा जाता था। दोपहर का भोजन सुबह के 8:00 बजे से 1:00 बजे तक परोसा जाता था,एवं इसी के साथ ही जो रात्रि का भोजन जो कि साय 5:00 से रात्रि के 8:00 बजे तक परोसा जाता था।

Q3. राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में खाने का मेनू क्या होगा?

Ans:- खाने के मैन्यू में 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी एवं 250 ग्राम रोटी व अचार होता है। इस योजना के अनुसार जो जिला स्तरीय समिति है वह इसमें अपने हिसाब से फेरबदल भी कर सकती हैं। अर्थात वह खाने के मैन्यू में बदलाव ला सकती है।

Q4. राजस्थान इंदिरा रसोई योजना में थाली पर कितना अनुदान बढ़ाया गया?

Ans:- इंदिरा रसोई योजना में पहले थाली पर ₹12 का अनुदान था। पर राज्य सरकार के द्वारा इसमें फेरबदल करके थाली का अनुदान ₹12 के बजाय ₹17 कर दिया गया। इसमें फेरबदल करने का कारण अशोक गहलोत ने यह बताया कि इससे सभी गरीबों भुखो को लाभ मिलेगा एवं इस योजना को चलाने में सुगमता आएगी।

Q5. Rajasthan Indira Rasoi Yojana की ऑफिशल वेबसाइट एवं हेल्पलाइन नंबर क्या है?

Ans:- बात करें राजस्थान Rajasthan Indira Rasoi Yojana में की ऑफिशियल वेबसाइट की तो उसकी ऑफिशल वेबसाइट indirarasoi.rajasthan.gov.in है। एवं Rajasthan Indira Rasoi Yojana के हेल्पलाइन नंबर 1800-1806-127 है। इस नंबर पर आप भोजन से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी एवं शिकायत के बारे में चर्चा कर सकते हैं।

About Vinod Yadav

My name is Vinod Yadav and I am from Haryana. Although I do a job, but I am fond of writing. This blogging starts from here again. I belong to a farming family, so I have a good knowledge of agriculture. I am also an engineer in textile, so the market and plans are also taken care of. There's just one drawback. Bless you all. Hope to keep it. Jai Hind, Jai Jawan - Jai Kisan

Related News

Leave a Comment