Badam ki kheti : बादाम की खेती से कमाए 40 लाख रूपये सालाना, बादाम की खेती की पूरी जानकारी यहाँ से ले

Written by Vinod Yadav

Published on:

Badam , पिस्ता, काजू मिठाई और घर में इस्तेमाल किये जाने वाले महंगे ड्राई फ्रूट है। इनकी कीमत भी काफी अधिक होती है। घर में कोई प्रोग्राम होता है तो मिठाई और मेहमानो के लिए इन ड्राई फ्रूट का उपयोग काफी मात्रा में होता है। बादाम स्वास्थय के लिए खाशकर दिमाग के लिए फायदेमंद होता है। और इसका तेल भी बाजार में बिकता है। नार्मल रेट की बाद करे तो बाजार में बादाम का रेट कम से कम 700 से 1000 रूपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से होता है। जहा पर बादाम की खेती होती है। वहा पर हर पेड़ से लगभग दो से ढाई किलो बादाम का उत्पादन हो जाता है। और इससे किसानो की आय भी अच्छी होती है लेकिन इसकी खेती देश में कुछ ही सथानो पर होती है। इसका सबसे बड़ा कारण जलवायु है। अधिक गर्म इलाको में बादाम की खेती संभव नहीं है। निचे इस पोस्ट में आपको Badam ki kheti kaise ki jaati hai की पूर्ण जानकारी दी गई है।

बादाम की खेती जरुरी तापमान, मिटटी, पानी

जिस एरिया में बादाम के पेड़ उगते है उस एरिया की मिटटी चिकनी, दोमट और उपजाऊ होती है। इसके लिए समतल बलुए जमीन की जरुरत होती है। जब बादाम के पेड़ लगाए जाते है उससे करीब 4 से 5 महीने पहले ही खड्डे तैयार किये जाते है। और इन खड्डो में देशी खाद और आर्गेनिक केंचुआ का खाद मिलाया जाता है। इसके साथ ही इसमें दीमक से पौधो को बचाने के लिए दवाई डाली जाती है। जब इन खड्डो में पेड़ लगाए जाते है तो इनकी दुरी हर पेड़ के बीच 5 से 6 मीटर की रखी जाती है। क्योकि जब पेड़ फैलता है तो इसको जगह की जरुरत होती है। बादाम के पेड़ लगाने के बाद उनमे गर्मियों की दिनों में 10 से 12 दिनों के अंतराल से पानी दिया जाता है। और सर्दियों के मौसम में 20 से 25 दिनों के गैप से पानी की सिचाई की जाती है। तापमान की बात करे तो बादाम के पेड़ को नार्मल टेम्प्रेचर की जरुरत होती है लेकिन जब इसके फल पकते है तो 30 से 33 डिग्री टेम्प्रेचर की जरुरत होती है।

बादाम के लिए खेत को तैयार करना

Badam Ki Kheti से पहले पुरे खेत को अच्छी तरह से जोता जाता है इससे जो भी खरपतवार होती है वो खत्म हो जाती है और मिटटी भी उल्ट पलट हो जाती है। जिससे मिटटी की उर्वरक क्षमता बढ़ जाती है। इसके बाद 5 – 5 मीटर की दुरी पर खड्डे बनाये जाते है। इन गड्डो की गहराई को 3 फ़ीट और चौड़ाई भी तीन फ़ीट रखी जाती है। आपको चारो कोनो को 3 फ़ीट के एरिया में रखना होता है। और इन खड्डो में खाद और दवाई डाली जाती है। फिर चार से पांच महीनो के बाद इन खड्डो में पेड़ का रोपण किया जाता है।

पेड़ परवर्धन के तरीके

Badam के पेड़ में परवर्धन तीन विधि के द्वारा किया जाता है। इसमें छल्ला चश्मा विधि , कलम विधि और टी विधि और एक बात का ध्यान रखियेगा। की परवर्धन की विधि जनवरी से फरवरी के महीने में की जाये तो अच्छी होती है। वही पर यदि आप चश्मा विधि का उपयोग कर रहे है तो अप्रैल और मई के महीने में अच्छा समय होता है।

खाद , बीज की जानकारी

शुरुआत में जब पेड़ लगाने के लिए खेत में गढ्ढे तैयार किये जाते है तो उसमे आपको गोबर और आर्गेनिक केंचुए की खाद ही डालनी होती है। लेकिन जब आप बादाम के पेड़ लगा देते है तो इसमें आपको फास्फोरस और पोटाश की अधिक मात्रा अप्रैल में और नाइट्रोजन की मात्रा फरवरी से अप्रैल के मध्य दी जाती है। इसके साथ ही साल में 30 से 40 किलो गोबर की तैयार खाद और 2 KG कैल्सियम , अमोनिया नाइट्रेट और डेढ़ किलो सुपर फास्फेट और एक किलो म्यूरेट प्रति प्रति पौधा देनी होती है। जो की साल में एक बार आप दे सकते है।

बादाम की किस्मे

हमारे देश में बादाम की कई किश्मे मिलती है और इनका बाजार भाव भी अलग अलग होता है। बादाम की मुख्य किस्मे नॉन पेरिल , ड्रेक , थिनरोल्ड ,आई एक्स एल, निलपस, केलिफोर्निया पेपर सेल है जो की मुख्य रूप से फसल बोई जाती है।

बादाम के पेड़ कैसे लगाए जाते है

बादाम के पेड़ लगाने से पहले खेतो में तीन बाई तीन और गहराई तीन फुट के गड्ढे बनाये जाते है। और इसको सितम्बर या अक्टूबर से पहले तैयार किया जाता है। इसमें खाद और दवाई का मिश्रण डाला जाता है। बीस दिन बाद बादाम के पौधो का फरवरी या मार्च के महीने में रोपण किया जाता है। रोपण करने से पहले पुरे खेत की अच्छे से जुताई होती है और खड्डे बनाये जाते है। जिससे खरपतवार नहीं होती है और बादाम के पेड़ में कीड़े लगने का डर नहीं होता है। बादाम के पेड़ को लगाने के बाद समय समय पर इसकी निराई गुड़ाई होती है। और इसकी देखभाल करनी होती है। समय पर पानी और खाद और कीटनाशक दवाई देनी होती है।

फसल पकने के बाद तुड़ाई कैसे होती है

जब बादाम के पौधे लगाए जाते है तो करीब ढाई से तीन साल के बाद इन पौधो पर फूल आते है। इसके बाद फल बनता है। बादाम के फल को पकने में 7 से 8 महीने का समय लगता है। इतने टाइम में बादाम का फूल पूर्ण रूप से फल बन कर इसमें जो गिरी बनती है वो पक जाती है। फिर इसको आप तोड़ सकते है। तुड़ाई करने के बाद आपको इन फलो को धुप में सूखने के बाद आप इनसे गिरी को अलग कर सकते है।

बादाम का पेड़ कितने टाइम तक फल देता है और कितने टाइम में बड़ा होता है

बादाम के पेड़ को लगाने के बाद आपको करीब तीन से चार साल तक इनकी देखभाल अच्छे से करनी होती है। इसके बाद ही इन पेड़ो पर फल आने शुरू होते है। लेकिन पूर्ण रूप से परपकव ये पौधे करीब छह से सात साल के बाद होते है। जब बादाम का एक पेड़ पूर्ण रूप से विकसित हो जाता है तो इससे तीन से चार किलो सूखे बादाम एक पेड़ से हर साल आप ले सकते है। और बादाम के पेड़ की औसत आयु करीब 50 से 60 वर्ष होती है। इसके बाद इनके फल देने की क्षमता कम हो जाती है। फिर नए पौधे इनकी जगह आप लगा सकते है।

देश में बादाम के लिए अनुकूलित जगहे Badam ki kheti kaha hoti hai

देश में कुछ गिने चुने राज्य है जहा पर बादाम की खेती होती है। इनमे जम्मू कश्मीर तो मुख्य राज्य है इसके आलावा उत्तराखंड , हिमाचल प्रदेश राज्य में भी बादाम की खेती होती है। और सिक्किम राज्य में भी बादाम की खेती की जाती है।

बादाम के खेती में ध्यान रखने वाली बाते

  • यदि आप बादाम की खेती कर रहे है तो आपको ध्यान रखना चाहिए की बादाम के पौधो में नियमित रूप से सिचाई का ध्यान रखा जाये
  • खाद और कीटनाशक का उपयोग समय के हिसाब से शाम के समय करना चाहिए या फिर कम धुप हो तब भी आप इसका इस्तेमाल कर सकते है।
  • फर्टिलाइज़र देने के बाद पेड़ में पानी जरूर दे नहीं तो पेड़ खत्म हो जायेगा।
  • बादाम के पेड़ के आस पास उगने वाले अनावशयक पौधो को उखाड़ के फेक दे क्योकि इन पौधो के संपर्क में आने से बादाम के पेड़ में बीमारियों के आने का खतरा हो सकता है।
  • बादाम के खेती के साथ आप अन्य फसल भी ले सकते है लेकिन ध्यान ये रखे की उस फसल से बादाम के पेड़ को कोई नुकसान न हो

बादाम के मार्किट रेट

आपको पता है की बादाम एक ड्राई फ्रूट है और शादी ब्याह , त्यौहार के समय पर बादाम और अन्य ड्राई फ्रूट का मार्किट भाव क्या होता है। नार्मल रेट 700 से 1000 रूपये किलो तक का भाव आपको मार्किट में देखने के लिए मिल जाता है। ये बाजार भाव बादाम की अलग अलग किस्मो के हिसाब से अलग अलग होता है

FAQ -:

प्रश्न – बादाम के पेड़ कितने दिन में तैयार होता है ?
उत्तर – बादाम का पेड़ फल देने के लिए कम से कम छह साल में तैयार होता है।
प्रश्न -: बादाम के रेट साल 2023 में क्या है ?
उत्तर – 800 से 1200 रूपये किलो ग्राम।
प्रश्न -: बादाम की खेती भारत में कहा पर होती है?
उत्तर – जम्मू कश्मीर , उत्तराखंड , सिक्किम
प्रश्न -: बादाम के पेड़ में कितना पानी देना होता है ?
उत्तर – बादाम के पेड़ को औसतन 41 से 44 इंच सालाना पानी की जरुरत होती है।
प्रश्न -: सबसे अच्छे बादाम कहां से आते हैं?
उत्तर – सिसिली
प्रश्न -: बादाम का पौधा कब लगाएं?
उत्तर – फरवरी से मार्च
प्रश्न -: सबसे महंगा बादाम कौन सा है?
उत्तर – मैकडामिया नट्स
प्रश्न -: बादाम की तासीर क्या होती है?
उत्तर – गर्म

About Vinod Yadav

My name is Vinod Yadav and I am from Haryana. Although I do a job, but I am fond of writing. This blogging starts from here again. I belong to a farming family, so I have a good knowledge of agriculture. I am also an engineer in textile, so the market and plans are also taken care of. There's just one drawback. Bless you all. Hope to keep it. Jai Hind, Jai Jawan - Jai Kisan

Leave a Comment